मेरी मित्र सूची - क्या आप सूची में है ?

Friday, February 8, 2013



ताज़ा मुक्तक........

आँखें न जाने क्या क्या सह जाती है 
कभी जलती हैं आग सी ,कभी दरिया सी बह जाती हैं 
क्यूँ पढता नहीं 'वो' इन्हें 
लब जो कह पाते नहीं ये आँखें अक्सर कह जाती हैं
.......पूनम माटिया 'पिंक'

Taza muqtak ......

Aankhe'n na jaane kya kya sah jaati hain
kabhi jalti hain aag sii ,kabhi dariya se bah jati hain
kyun padhta nahi 'vo' inhe
lab jo kah paate nahi ye aankhe'n aksar kah jaati hain
.
....poonam matia'pink'