मेरी मित्र सूची - क्या आप सूची में है ?

Thursday, May 8, 2014

ज़िन्दगी एक सफ़रनामा ...........

जब छोटी थी मै जिंदगी एक चुलबुली चिड़िया थी 
नन्हे-नन्हे पर, नन्ही नन्ही खुशियाँ थी
कुछ आगे बढता गया समय 


ज्यों रेलगाड़ी चलती अपने लक्ष्य की ओर
उतरते -चढ़ते मुसाफिरों के साथ
वैसे ही पाठ जीवन के अपना रंग चढाते रहे
अपने-पराये उसमे अपनी भूमिका निभाते रहे
विद्या ने अविद्या के मिटाए निशाँ
सपनो ने भी सजाया अपना जहां
साथी बदल गए
घनिष्ट मित्रों ने भी रास्ते जुदा किये
इसी का नाम है जिंदगी
जहां होती है नित नयी रवानगी
उतार-चढाव बिन नहीं है मज़ा पहाड़ों का
कभी तो मौसम ग्रीष्म रहा और कभी जाड़ों का
सूरज ने कभी पिघलाया अपने तेज से
चंदा की चांदनी ने भी कभी बिठाया सेज पे 

फूलों,तितलियों से रंग -बिरंगी थी कभी ये राह
सियाह और सफ़ेद भी बीते दिन कभी बेपरवाह
उम्र के पढाव पार होते गए
कभी थी अकेले अब मेरे भी अंश बड़े होते गए
थकन बेशक हो सफर-ए-जिंदगानी में
ठाना है न हो कमी जोश-ए-जवानी में
सीखना-सिखाना ,रुकना और फिर चलना
यही तो रीत है और यही पाठ है सिर्फ पढ़ना
अकेले तो जाना है इस संसार से पार
पर कुछ कर जाएँ औरों के लिए
तो भव सागर से नैया हो जायेगी बिन कठिनाई पार
और फिर भी इस जगत से जुड़े रहेंगे तार ...........................पूनम माटिया 'पूनम'.