मेरी मित्र सूची - क्या आप सूची में है ?

Sunday, July 22, 2012

होसलों में उड़ान.....

माना है असंभव ‘चाँद’ को पाना 

पर दिल पर किस का ज़ोर है ‘जाना’ 


जिद्द है इसकी चाहेगा वही 

जिसे पाने में करनी पड़े जद्दो-जहद .. 


गर होसलों में उड़ान न हो 

जुस्तजु दीदार-ए-यार न हो 


नहीं ऐसी शक्सियत की ख्वाइश मुझे

जो हाथ में न कैद कर सके 

उस चाँद की चादनी 

और ज़हन में ‘उसका’ अक्स...........पूनम(ss)