मेरी मित्र सूची - क्या आप सूची में है ?

Monday, March 25, 2013

आओ ऐसे मनाये होली ................



(तस्वीर के लिए मेरे दोस्त मंदीप कुमार का धन्यवाद .............)

फाल्गुन की रुत लायी फूलों की बहार
चहु ओर प्रकृति ने किया सोलह शृंगार
परीक्षाएं हो ख़त्म बच्चे लगा रहे गुहार
गुब्बारे-गुलाल ले करें होली का इंतज़ार| 

बच्चों सा बड़ों में क्यूँ दिखे नहीं उत्साह
क्यूँ बाल-बालिकाओं में उठे नहीं अब चाह
रचाएं मिल कर कृष्ण-राधा सा अब रास
रंगों से भर दें फिर आज अपना आकाश|

कांजी-पकवानों की खुशबु से महके हवाएं
घूमे मस्त टोलियाँ रंगों की परते चढ़ाएं 
नर-नारी सब मिलके गीत मिलन के गायें
ढोल की थाप पे झूम-२ ठुमके लगायें|

मनाते थे मिलके कभी ये रंगीला त्योहार
पर नहीं है सुरक्षित अब भारत की नार 
जिससे बची नहीं मिठास अब इस त्योहार 
करना ही होगा कुछ परिवर्तन इस बार| 

हर नारी हो सुरक्षित ऐसा हो पुरुष-व्यवहार
जगे फिर विश्वास, बहे बदलाव की गंग-धार
फिर से बहने लगे सुगन्धित प्रेम की बयार
आओ ऐसे मनाये इस बार होली का त्योहार................पूनम