मेरी मित्र सूची - क्या आप सूची में है ?

Tuesday, March 26, 2013

पी संग होली खेली .............रंग प्यार के


एक सखी दूजी से बोली
मैंने पी संग खेली होली
भीगी अंगिया भीगी चोली
मैंने पी संग खेली होली

कंगन, झुमका, पायल, हार
नहीं मोहे कोई दरकार
मैं पी की बाँहों में झूली
मैंने पी संग खेली होली

रंग डारे मोरे गाल गुलाल
सर्र-२ चले पानी की धार
मैं झूम झूम बांवरी हो ली
मैंने पी संग खेली होली

कजरा, गजरा, बिंदी, लाली
शर्म-ओ-हया सारी धो डाली
देवर-नंदोई संग करूँ ठिठोली
मैंने पी संग खेली होली

मोरे पिया  गए अब बोराए
सब जन आगे अंग लगाये
खाई कैसी नशे की गोली
मैंने पी संग खेली होली...............पूनम