मेरी मित्र सूची - क्या आप सूची में है ?

Monday, July 22, 2013

गुरु कहीं भी ,कोई भी हो सकता है जिससे हम कुछ सीखते हैं या ज्ञान प्राप्त करते हैं ..........वह एक बालक भी हो सकता है .......एक वृद्ध भी .......एक वृक्ष भी हो सकता है .....और एक पत्थर भी ............शिव भी ........और शैव भी ....... विष्णु भी .........और वैष्णव भी .......माता भी ..........और पिता भी .......अध्यापक भी .........और एक शिष्य भी ......एक जड़ पर्वत भी .....और यायावर राहगीर भी ....अर्थार्त .....जो ज्ञान की वृष्टि /वर्षा करे .वही गुरु है ..........और उसके प्रति हमें अपने मन में श्रद्धा ,आदर और कृतज्ञता के भावधारण करने चाहियें ........तभी ज्ञान-उपार्जन की सफ़लता है ........गुरुवे: नमः ........बधाई सभी को गुरु पूनो की ..और मेरा हार्दिक आभार उन सभी को जिनसे मैंने आज तक कुछ भी सीखा ................
Guru kahin bhi koi bhi ho sakta hai Jisse ham kuchh seekhte hain ya gyaan prapt karte hain .........vo ek baalak bhi ho sakta hai .......aur ek vriddh bhi ............ek vriksh bhi ho sakta hai ......... aur ek patthar bhi ....... Shiv bhi ..........aur shaiv bhi ....... Vishnu bhi ...........vaishnav bhi ........ mata bhi aur .......pita bhi ....... adhyapak bhi .....aur Shi


shya bhi.......... ek jad parvat bhi ........aur ek chalta raahgeer bhi .................. artharth .......... jo gyaan kii vrishti kare ....Vahi Guru hai .... uske prati shradhha ,aadar aur kritagyata ke bhaav man mei dharan karne chahiyen ......tabhi gyaan -uparjan kii safalta hai ............. Guruve Nam:........ badhaai sabhi ko Guru pUno ki ......aur Mera hardik abhaar un sabhi ko Jinse maine aaj tak Kuchh bhi seekha hai ................. Poonam matia