मेरी मित्र सूची - क्या आप सूची में है ?

Thursday, November 29, 2012

कजरारे नयन तुम्हारे 

करे मेघ भी कारे

मुझ भ्रमर मन को चैन कहाँ 


उडत फिरत हूँ 



रस को तिहारे




इत-उत निहारूं
,


चित किंचित अकुलाए 


पल भर को पलक झपकाओ ,


प्रिय 


मोर मन धीर कहीं तो पाए ..........Poonam