मेरी मित्र सूची - क्या आप सूची में है ?

Saturday, January 5, 2013

मेरे पहले काव्य -संग्रह 
स्वप्न श्रृंगार(
शृंगार) से .........और मेरे दिल के बहुत नज़दीक .......
शायद सच .........

बेचैन मैं सुकूं तलाशती रही गली कूंचे में 


ए खुदा तूने भी क्या कायनात बनाई है

मुझसे मेरी ही 'शक्सियत' मिल न पायी है

इंतज़ार में जिसके मैं बैठी रही सजदे में

वो कमज़र्फ न जाने छुपी है कितने पर्दों में................पूनम