मेरी मित्र सूची - क्या आप सूची में है ?

Wednesday, May 1, 2013

मोक्ष को तरसती आत्मा......

आत्मा का सफ़र खत्म होता नहीं 
चलता रहता है ये अनंत , चैन पल भर नहीं 

                                               गुजरता है बरसो-बरस कई जज़ीरों से
                                               जानवर , पक्षी , फूल या हम-तुम
                                               जैसे कई शापित मानवी शरीरों से 


जब तक ना हो जाए हमारे कर्मो का हिसाब
मोक्ष को तरसती रहे आत्मा ,चलता रहे 

जन्म-मरण और जन्म फिर , यह चक्र चिरकाल 

                                               कश-म-कश में रहे है जीव ,
                                               कब , कहाँ और कैसे मुक्त हो इस जीवन चक्र से
                                               लालची पूजे देव-देवी या कोई हो पत्थर निर्जीव 


इसी आशा में जीवन गुजरता जाए
देंगे कभी तो देव हमें मोक्ष का कोई उपाय


                                                                                                        ..............पूनम