मेरी मित्र सूची - क्या आप सूची में है ?

Monday, August 6, 2012

अंजुली भर प्यार ...


इस सफर में चलते-चलते मिलेंगे बहुत 
 

प्यार से लगेंगे गले या काट सकते हैं गला भी 
 

बात बनती है जब उठे हस्त आशीष के लिए 
 

या फिर किसी असहाय की मदद के लिए 
 

हाथ हाथ को थाम ले बढे मंजिल की ओर 
 

कहानी ऐसी लिखे इस जिंदगानी के पथ पर 
 

जो सागर से हो गहरी और ऊँची आसमा से 
 

जीत लिखो या हार लिखो ,बस मेरे दोस्त 
 

इक अंजुली-भर निस्वार्थ प्यार लिखो ........पूनम (SS)