मेरी मित्र सूची - क्या आप सूची में है ?

Friday, August 24, 2012

तड़प



अश्क बह जाएँ

किसे फ़रक पड़ता है

सूख के दरदरे हो जाएँ

क्या  फ़रक  पड़ता है

न पत्थर पिघलता है

न सागर मचलता है

बस एक दिल तड़पता है

और दो आंखें बरसती हैं ................पूनम(N)